गरुड़ासन

गरुड़ासन – जानिए एस आसन को करने के फायदे

Posted by

गरुड़ासन                                                        (image source by  www.123rf.com)

गरुड़ासन  योगासन में गरुड पक्षी जैसी स्थिति बनानी पड़ती है | इसीलिए इस आसन को गरुडासन कहते हैं | इस आसन में एक झांक दूसरी झांक पर लपेट कर रखी जाती है | जंघाओं और भुजाओ का समुचित आया होता है ,और शुद्ध रक्त का प्रवाह उधर बहने से बलिष्ठ होता है|




अनुभव बताता है  इस आसन को नियमित करने से अंडकोष वृद्धि और हानियों के निवारण में आशातीत सहायता मिलती है | जो लोग यह आसन करते हैं उसे वह होने नहीं  देते
गरुडासन कटिशूल संधिवात घटिया और गृध्रसी के दर्दों को दूर करता है इससे जंगल सुडोल बनती है ,और आपकी बुद्धि शक्ति होती है

गरूडासन कैसे करते हैं

दो पैरों को मिलाकर सीधे खड़े हो जाइए हथेलियां सामने की ओर रखें बाएं पैर को सीधा रखते हुए दाहिने पैर को सपर्वत लपेटते हुए, उस पर चिपका कर  रखिए इसके बाद दोनों हाथों को सरपत लपेटते हुए दोनों हाथों की उंगलियां परस्पर मिला दीजिए दोनों हथेलिया सामने की ओर रखनी चाहिए 1 से 5  मिनट तक ऐसे ही खड़े रहिए भुजाओ और टांगो की लपेटे खूब कसी होनी चाहिए| जिससे उनका नस नाड़ियों और मांसपेशियों में खिंचाव रहे|

उसके बाद पहली स्थिति में आकर एक मिनिट विश्राम कीजिए तदुपरांत दाहिने पैर को सीधा रखते हुए बाएं पैर को सर्पवत लपेटिए दोनों हाथों को पूर्ववत् लपेट ते हुए, दोनों करतल मिलाकर सामने की ओर रखें इतने समय तक ऐसी स्थिति में दाहिने टांग पर खड़े रहिए जितने समय तक चौथी स्थिति में आप बाई टांग पर खड़े रहे थे|




फिर एक आधी मिनिट तक विश्राम  करके तीन से पांच बार तक इसी प्रकार पाओ और हाथों के पैर फिर से यह आसन करना चाहिए|

ई-शासन में स्वाद स्वभाविक नीतीशे लेते और छोडते रहे एक टांप  पर खड़े होने की अवधि का विस्तार करना चाहिए | यदि प्रारंभ में एक मिनिट तक एक टांग पर खड़ा होना दुष्कर लगता हो 20-30 सेकेंड तक ही खड़े रहना चाहिए टांगे शुरू पोस्ट होती जाएगी कुछ लोग इस आसन को करते समय प्यार पर पूर्वक प्रकार से खड़े होकर मणि बंधुओं को नासाग्र पर रखते हुए गरुड की चांच  के समान आकृति बनाएं |

ऐसा करने से मन को एकाग्रता करने में सहायक होती है और प्रसंता भी आती है इससे आपको अपनी आंखों को भी राहत मिलती है|

गरुड़ासन करने से आपको बहुत लाभ होता है और इसे रोज करना चाहिए |

Also Read: वातायन आसन – पाऐ स्वप्नदोष जैसे रोगों से छुटकारा


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *