Baddha Padmasana yoga hindi

बद्ध-पद्मासन योगा

Posted by

बद्ध-पद्मासन योगा

Baddha Padmasana yoga hindi



पद्मासन को दोनों हाथों से बनते हैं | इसलिए इस आसन का नाम बद्ध-पद्मासन है |

दरी पर पद्मासन लगाकर बैठ जाइए | एडिया पेट के निचले भाग से सटी हुई रहनी चाहिए |

पंजे जांघो से बाहर निकालिए | अब बाए भुजा को पीछे की ओर ले जाकर बाए हाथ से बाए पांव का अंगूठा पकड़ लीजिए |

तत्पश्चात दाईं भुजा को पीछे की ओर ले जाकर दाएं हाथ से दाएं पांव का अंगूठा भी पकड़ लीजिए |

अब आप कमर,  पीठ, रीढ की हड्डी और गर्दन सीधी रखें | आंखें बंद कर लीजिए | स्वास – प्रश्वास आराम से लेते रहिए | यह वध पद्मासन की स्थिति है | जितनी देर भी आप इस आसन में बैठ सकते हैं,  बैठिए |
यह आसन कठिन आसनों में से एक है | मोटे व्यक्तियों के लिए या कुछ कठिन रहता है | परंतु प्रतिदिन अभ्यास कीजिए | आप अवश्य सफल होंगे |

बद्ध-पद्मासन योगा से होने वाले फायदे:-

  • बद्ध-पद्मासन दुबले व्यक्तियों को बलिष्ठ बनाता है, उन्हें शक्ति देता है, उनकी छाती को चौडा करता है |
  • इसके अभ्यास से हाथ, गर्दन, कंधे एवं पीठ के दर्द तथा साइटिका दर्द दूर हो जाता है |
  • कुर्सी पर बैठकर काम करने वालों के लिए यह एक अच्छा आसन है |
  • यह आसन हदय, फेफड़ों जिगर तिल्ली तथा अन्य पाचन अवयो पर अपना प्रभाव डालता है |
  • रक्त संचार को तेज करता है |
  • महिलाओं के संरक्षित करता है |



Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *