उदयपुर में देखने लायक स्थल

Posted by

उदयपुर में देखने लायक स्थल : Udaipur ke paryatan sthal

best-places-to-visit-in-udaipur




उदयपुर भारत देश के राजस्थान  राज्य में बसा हुआ एक शानदार देखने लायक शहर है | उदयपुर बहुत ही बड़ा शहर है  पूर्व में राजपुताना के समय में उदयपुर मेवाड़ राज्य की ऐतिहासिक राजधानी शहर था | उदयपुर की खोज महाराणा उदय सिंह ने की थी |

और इन्होंने चित्तौड़गढ़ की जगह उदयपुर को अपनी राजधानी बनाया था | जब ब्रिटिश राज्य का शासन आया  तब उदयपुर ही राजधानी रही फिर बाद में मेवाड़ राज्य को राजस्थान का हिस्सा बना लिया | उदयपुर पर्यटन के लिए एक  अच्छी जगह है |

उदयपुर की संस्कृति और सुंदरता देखने के लिए  ज्यादातर लोग बाहर से ही आते हैं बड़ी बात यह है कि उदयपुर में मेवाड़ परिवार का सुंदर महल है | जिसे रॉयल पैलेस कहा जाता है यही सबसे बड़ा आकर्षित  स्थल है |

सबसे अनोखी बात यह है कि उदयपुर में  तालाबों की संख्या ज्यादातर है इसलिए इस शहर को “सिटी ऑफ लेक” भी कहा जाता है |

उदयपुर में देखने लायक स्थल  : उदयपुर पर्यटन

  1. कुंमाभलगढ़ किला
  2. बगोरे  की हवेली
  3. लेक पिलोका
  4. मानसून पैलेस
  5. जगमंदिर
  6. जगदीश मंदिर
  7. लेक फतेहसागर
  8. सहेलियों की बारी
  9. लोक कला संग्रहालय
  10. जैसमंद लेक




1.सिटी पैलेस :

Udaipur visit guidecity-palace-udaypur

सिटी पैलेस की स्थापना 16वीं शताब्दी में आरम्भ हुई। इसे स्थापित करने का विचार एक संत ने राजा उदय सिंह को दिया था। महाराणा उदय मिर्जा ने सिटी पैलेस का निर्माण किया था जय श्री ज्वेलर्स पीकॉला के पास है यह बहुत सुंदर और  यूरोपियन वास्तु कला  स्थित है  |

इस महल के अंदर राजाओं के हथियार और सवारी रथ सभी  इसके अंदर स्थित है |  इस महल में पेंटिंग भी बहुत है जो इस महल का इतिहास बताती है | यह महल एक सुंदर  कलाकृतियों से भरा हुआ है | सिटी पैलेस की वर्षों पुरानी आठ मूर्तियां वर्तमान में पेरिस में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय मूर्त शिल्प प्रदर्शनी में पूरे हिंदुस्तान की मान बढ़ा चुकी हैं।

उदयपुर में होटल बुक करे

2.कुंमाभलगढ़ किला

kumabhalgath-kila

कुम्भलगढ़ का दुर्ग राजस्थान ही नहीं भारत के सभी दुर्गों में विशिष्ठ स्थान रखता है। वास्तुशास्त्र के नियमानुसार बने इस दुर्ग में प्रवेश द्वार, प्राचीर, जलाशय, बाहर जाने के लिए संकटकालीन द्वार, महल, मंदिर, आवासीय इमारतें, यज्ञ वेदी, स्तम्भ, छत्रियां आदि बने है।

इस किले में सात बड़े दरवाजे हैं। इनमें से सबसे बड़ा राम पोल के नाम से जाना जाता है। किले की ओर जाने वाले मुख्य रास्ते हनुमान पोल पर पर्यटक एक मंदिर देख सकते हैं। हल्ला पोल, राम पोल, पाघरा पोल, निम्बू पोल, भैरव पोल एवं तोप-खाना पोल किले के अन्य दरवाजे हैं।




Book Flight

3.बगोरे  की हवेली

Udaipur travel placesbagore-ki-haveli-udaipur

बगोरे की हवेली में विश्व की सबसे बड़ी बताई जाने वाली पगड़ी दर्शकों के आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है।  बड़ौदा के आवंती लाल चावला द्वारा तैयार की गई यह पगड़ी 3 राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश व गुजरात के किसानों द्वारा बांधी जाती पगडिय़ों के स्टाइल है। इस पगड़ी का बायां भाग गुजराती किसानों, दायां मध्य प्रदेश और मध्य भाग राजस्थान के किसानों के पगड़ी बांधने के स्टाइल को दर्शाता है। बगोरे की हवेली के अजायब घर में रखी गई यह पगड़ी 30 इंच ऊंची है, जिसका घेरा 11 फुट व भार 20 किलो है और वह 7 इंच मोटी है।

इस हवेली में और भी अनोखी कलाकृति है जिसके कारण यह बड़े लोगों के दर्शन का आकर्षित होना है |

उदयपुर में होटल बुक करे

4.लेक पिलोका

Udaipur travel pointslake-piloka

इसका निर्माण राजा उड़ाई सिंह करवाया था इस लेक के आसपास भव्य मंदिरों सोहन घाटी एवं छोटे-छोटे महिलाओं के  बीच में है | यह बहुत ही सुंदर और देखने लायक है |




Book Flight

5.मानसून पैलेस

Udaipur best placesmonsoon-palace-min

मानसून पैलेस सज्जनगढ़ पैलेस के नाम से भी जाना जाता है | पर्वत की चोटी पर मेरी मीठी आलीशान पहले से है | इसके ऊपर से जिल का सुंदर दृश्य  दिखाई देता है इसका निर्माण महाराजा राजवंश ने किया था इस पैलेस से आसपास के सभी दृश्य और गांव को देखा जा सकता है |

मानसून पैलेस के नाम से पहचान रखने वाला सज्जनगढ़ समुद्री तल से 3100 फीट ऊंचाई पर है। शहर में इससे ज्यादा ऊंचाई पर कोई भी इमारत नहीं है। जिसे खास तौर पर मानसून के बादलों को देखने के लिए बनाया था। जो करीब 132 साल पुराना है।

उदयपुर में होटल बुक करे

6.जगमंदिर

jag-mandir

यह एक द्वीप के किनारे पिछोला झील के किनारे पर बनाया गया है । यह “लेक गार्डन पैलेस” के नाम से भी जाना जाता |

महाराणा अमर सिंह ने पहली बार इस महल का निर्माण शुरू किया। बाद में, महाराणा कर्ण सिंह ने इसका काम कराया। महाराणा जगत सिंह प्रथम ने महल के निर्माण कार्य को पूरा किया। यह जग मन्दिर के रूप में अंतिम राजा महाराणा जगत सिंह के नाम पर नामित किया गया हें।



जग मंदिर में गुल महल मुगल राजकुमार खुर्रम के लिए बनाया गया था। इमारत के अंदर, हॉल, स्वागत क्षेत्र, अदालतें, और आवासीय स्थान हैं। कुंवर पाडा का महल या युवराज पैलेस जग मंदिर के पश्चिम में स्थित है।

यहाँ मंदिर में एक फूल बगीचा भी है। यात्री बगीचे में बोगनवेलिया, चमेली, काई गुलाब, फ्रैंगीपानी के पेड़ों और खजूर के पेड़ो को देख सकते हैं।

Book Flight

7.जगदीश मंदिर

jaddish-mandir-udaypur

इस मंदिर में विष्णु तथा जगन्नाथ जी की मूर्तियाँ स्‍थापित हैं। महाराणा जगतसिंह ने सन् 1652 ई. में इस भव्य मंदिर का निर्माण किया था। यह मंदिर एक ऊँचे स्थान पर निर्मित है।

इसके बाहरी हिस्सों में चारों तरफ सुन्दर नक़्क़ाशी का काम किया गया है, जिसमें गजथर, अश्वथर तथा संसारथर को प्रदर्शित किया गया है।

औरंगजेब की चढ़ाई के समय गजथर के कई हाथी तथा बाहरी द्वार के पास का कुछ भाग आक्रमणकारियों ने तोड़ डाला था, जो फिर नया बनाया गया।




उदयपुर में होटल बुक करे

8.लेक फतेहसागर

fateh-sagar-udaipur

फतेहसागर झील पर एक टापू है जिस पर नेहरू उद्यान विकसित किया गया है। साथ ही झील में एक सौर वेधशाला की भी स्थापना की गई है।

उदयपुर में घूमने जाओ तो इस पैलेस को देखे बिना उदयपुर पर्यटन अधूरा है | इस पैलेस में तीन आइसलैंड है इसलिए पहले सुंदर दिखता है और इस वर्ष में नेहरु पारक सबसे अधिक आकर्षित जगह है |

Book Flight

9.सहेलियों की बारी

saheliyon-ki-bari-udaipur

महाराणा भोपाल सिंह ने इसका निर्माण करवाया था | इस महान में राजाओं नाच गाना देखने के लिए जाते थे  इस महल में बगीचा है और बगीचे में कई सारे फूल है जो इंग्लैंड से आयात करें गए हैं | इसलिए यह बहुत ही आकर्षक है और इसके चारों ओर काले पत्थर का रास्ता बना हुआ है

इसमें कमल का तालाब और गुलाब का बगीचा भी है और भी कहीं सुंदर कलाकृतियों इसमें देखने लायक है इसीलिए यह पर्यटकों के लिए आकर्षित रहा है |

10.लोक कला संग्रहालय

lok-kala-snghalay

इस संग्रहालय में राजस्थान की कलाकृतियों और संस्कृतियों के बारे में इतिहास है | यहां राजाओं के इतिहास के बारे में भी काफी कुछ जानकारी भी संग्रहालय में है | यह संग्रहालय भी पर्यटकों के लिए आकर्षित है क्योंकि यहां बहुत कुछ राजस्थान के बारे में जानने के लिए मिलता है |




उदयपुर में होटल बुक करे

11.जैसमंद लेक

उदयपुर

इसलिए लेक को महाराणा जय शिंह द्वारा बनवाया गया था | यह राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। इस झील को एशिया की सबसे बड़ी कृत्रिम झील होने का गौरव प्राप्त है। यह राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से और झीलों में से एक है। इस झील को एशिया की सबसे बड़ी कृत्रिम झील होने का गौरव प्राप्त है। भारत और विदेशो से भी कही पर्यटक इस सुन्दर झील को देखने पहुचते है, यहां घूमने का सबसे उपयुक्त समय मानसून के समय है क्युकि मानसून के समय यह झील चारो और हरियाली ओढे हुए रहती है |



कैसे जाएं उदयपुर:

हवाई अड्डा :Plan your tour

डबोक एयरपोर्ट से 20 किलोमीटर की दूरी पर है

ट्रेन :

उदयपुर सिटी रेल्वे स्टेशन जो उदयपुर में है

राणा प्रताप रेलवे स्टेशन योगी उदयपुर में है

रोड द्वारा :

जयपुर से उदयपुर  [5 h  54 min (393.5 km)]

अहमदाबाद से उदयपुर   [4 h 18 min (259.8 km)]Bus Booking

दिल्ली से उदयपुर [10 h 26 min (663.0 km)]

मुंबई से उदयपुर [11 h 55 min (760.5 km)]

Read More:



Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *