Dhanurasana yoga in Hindi

धनुरासन आसन और इस आसन से होने वाले फायदे

Posted by

धनुरासन आसन | Dhanurasana steps and benefits
धनुरासन आसन

इस आसन की आकृति धनुष जैसी बनती है | इसलिए इसका नाम धनुरासन रखा गया है | सर्वप्रथम धरती पर पेट के बल लेट जाइए |  दोनों पैर मिले हुए हो | दोनों टांगों को पकड़े | अब सांस निकालकर धीरे-धीरे सिर को तथा हाथों से पकड़ी हुई टांगों को खींचे | सिर को अब पीछे ले जाने का प्रयत्न करें | दृष्टि पीछे की ओर होनी चाहिए | सांस को रोकते हुए कठिनाई अनुभव होने पर हाथ छोड़कर सिर तथा टांगों को सीधी धरती पर रखते हुए सांस लें |



अंत में रेचक करते हुए धीरे-धीरे वापिस लौट आए | टांगे सीधी फैलाएं | बाहों को बगल में रखकर शरीर को ढीला छोड़ दें और विश्राम करें | आरंभ में दो-तीन सेकंड करना ही पर्याप्त होगा | धीरे-धीरे समय बढ़ा सकते हैं | आराम से में एक बार ही करना चाहिए | धीरे-धीरे चार बार तक बढ़ा सकते हैं |

 

धनुरासन से होने वाले फायदे | Dhanurasana benefits in hindi

  • पेट के रोग दूर होते हैं और पाचन शक्ति बढ़ती है |
  • हदय का रोग दूर होता है |
  • पेट की चर्बी को कम करके भूजा और कंधो को लचीला बनाता है |
  • यह आसन सारे मेरूदंड को लचकेला और शक्तिशाली बनाता है |
  • आंतों को मजबूत बनाता है और रोगों को दूर रखता है |

 

नोट ;-

  •  हृदय की धड़कन, रक्तचाप तथा हर्निया के रोगियों को धनुरासन कभी नहीं करना चाहिए |



Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *